आनुवंशिक क्षमता: मिथक या वास्तविकता?

बहुत से लोगों को आनुवंशिक क्षमता / सीमा के विषय पर सीधी बात नहीं सुहाती। कुछ लोगों का मानना है कि कोई भी ओलंपिक स्तर के प्रदर्शन या प्रो-बॉडीबिल्डर्स के शरीर को प्राप्त कर सकता है, बशर्ते की अच्छा प्रशिक्षण, पोषण, सप्लीमेंट्स इत्यादि प्रदान किया जाये। दूसरी और कुछ संकीर्ण मत के लोग भी हैं जो किसी भी औसत से ऊपर परफॉरमेंस या Muscularity का मूल कारण Steroids ही मानते हैं.

जैसा कि मार्क ट्वेन ने कहा, “सत्य कल्पना से भी अधिक विचित्र होता है“, आइए आनुवंशिक संभावनाओं के पीछे के वैज्ञानिक सत्य को जानने का प्रयास करें। दो चरमों के बीच कहीं न कहीं एक स्थिर मध्यम होता है, और आज हम उसी का पता लगाएंगे।

जीन पूल विविधता

अध्ययन हमें बताते हैं कि हर व्यक्ति ट्रेनिंगजनित उद्दीपन पर समान रूप से प्रतिउत्तर नहीं देता है। कुछ लोग (Super Responders) अविश्वसनीय रूप से तेज प्रतिक्रिया देते हैं, वे केवल थोड़ी सी ट्रेनिंग से ही असाधारण लाभ उठाते हैं। दूसरी तरफ, कुछ लोग (Low/Non Responders) हैं जो ट्रेनिंग के लिहाज़ से सब कुछ ‘सही’ होने के बावजूद ज्यादा अच्छे नतीजे हासिल नहीं कर पाते। Bro science के हिसाब से पहली श्रेणी को ‘Easy Gainer’ के रूप में वर्गीकृत किया और दुसरे को ‘Hard Gainer’ के रूप में वर्गीकृत किया गया है; और जी हाँ, अध्ययन इन दावों का समर्थन करते हैं। अधिकांश लोग इस स्पेक्ट्रम के मध्य में अवस्थित होते हैं।

ध्यान रहे कि हम Drug-मुक्त व्यक्तियों के बारे में बात कर रहे हैं, न कि उन लोगों की जो स्टेरॉयड या प्रदर्शन बढ़ाने वाली दवा जैसे पदार्थों का उपयोग करते हैं। स्टेरॉयड का उपयोग व्यायामजनित उद्दीपन के लिए आपकी प्रतिक्रिया को काफी बढ़ा देता है। और Hard Gainer पक्ष के लोग उच्च टेस्टोस्टेरोन-मेटाबोलाइज़िंग जैसे कारकों के कारण एनाबॉलिक हार्मोन को कम प्रतिक्रिया देते हैं, जिस वजह से वह इन पदार्थों का अधिक दुरुपयोग करते हैं। PED’s की चर्चा इस लेख की परिधि से बाहर है, हम किसी और समय इस विषय के बारे में बात करेंगे।

Bouchard et al (7) का एक अध्ययन हमें दिखाता है कि Super-Responders ने बेसलाइन प्रदर्शन में 42% का सुधार हासिल किया जबकि Low Responders ने केवल 0 से 8% के बीच सुधार किए। एक अन्य अध्ययन (3) ने दिखाया कि 12-सप्ताह की ताकत प्रशिक्षण के बाद, सुपर रिस्पॉन्डर्स ने 1 Rep Max की ताकत में लगभग 250% सुधार किया और मांसपेशियों के आकार में 59% की वृद्धि की। जबकि Nonresponders का नतीजा 32% की शक्ति की कमी से लेकर 2% तक का मांसपेशिओं का नुकसान था।

आनुवांशिक कारक और ट्रेनिंग प्रतिक्रिया

कुछ आनुवांशिक कारक हैं जिनकी बदौलत एक Super-Responder एक Low-Responder की अपेक्षा कम से कम ट्रेनिंग पर भी अच्छी प्रतिक्रिया देता है इन कारकों का ज्ञान आपको कुछ प्रशिक्षण विधियों को पुनः समायोजित करने और कुछ नयी तकनीकों को लागू करने की गुंजायश दे सकता है जो कि आपके व्यक्तिगत शरीर विज्ञान के लिए उपयुक्त हों। इससे बेहतर प्रतिक्रिया और अधिक प्रगति होगी। नीचे उन आनुवांशिक कारकों की सूची है जो वास्तव में प्रशिक्षण के प्रतिउत्तर में एक बड़ा अंतर बनाते हैं:

  • अनुकूल उत्तोलन

कुछ व्यक्तियों की अंग संरचना वास्तव में कुछ कार्यों को निष्पादित करने में उन्हें बेहतर लाभ प्रदान करती है। यह एक दुबले व्यक्ति को Deadlift पर भारी वज़न उठाने की क्षमता दे सकती है। PowerLifting की दुनिया में ऐसे एथलीटों के विश्व रिकॉर्ड दर्ज हैं जिन्होंने अनुकूल उत्तोलन संरचना के कारण सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।

Lamar gant
Lamar Gant ने अपनी लम्बी बाज़ुओं द्वारा 56Kg वजन के साथ 290Kg Deadlift भार उठाया।
  • Muscle Belly की लंबाई

एक बड़ा क्रॉस-आंशिक लम्बी मांसपेशियों और छोटे Tendons वाले किसी व्यक्ति को मांसपेशी की आकार की वृद्धि के लाभ के लिए अधिक संभावनाएं प्रदान करता है। यह बड़े आकार के साथ-साथ ताकत की क्षमता को भी बढ़ाता है, साथ ही आघूर्ण भुजा और रोटेशन के अक्ष के Biomechanical लाभ को भी बढ़ाता है।

sergio oliva arms
3 बार Mr Olympia Sergio Oliva “The Myth” अपनी शानदार लम्बी मांसपेशियों को प्रदर्शित करते हुए।
  • उपचय

एक पुरुष के लिए टेस्टोस्टेरोन की सामान्य श्रेणी 280 से 1100 ng/dL है। यह एक बहुत विस्तृत श्रृंखला है इस तथ्य की मद्देनज़र कि टेस्टोस्टेरोन हार्मोन ताकत और प्रदर्शन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। कुछ लोग टेस्टोस्टेरोन और अन्य एनाबॉलिक हार्मोन के उच्च स्तर के साथ ही पैदा होते हैं जो कि उन्हें दूसरे लोगों पर महत्वपूर्ण अनुवांशिक बढ़त प्रदान करता है।

निष्कर्ष

अध्ययनों से पता चलता है कि सुपर रिस्पॉन्डर्स और लो रिस्पॉन्डर्स के प्रदर्शन में वाकई बहुत व्यापक फर्क है। हालांकि अधिकांश लोग (लगभग 70%) मध्य में अवस्थित हैं, लेकिन फिर भी आनुवंशिक पूल में भिन्नता नज़रअंदाज़ नहीं की जा सकती। तथ्य न केवल Elite स्तर पर प्रदर्शन भिन्नता के लिए स्पष्टीकरण सुझाता है बल्कि यह अभिप्राय भी प्रकट करता है कि क्यों कई बार कम अनुभवी व्यक्ति उल्लेखनीय लाभ प्राप्त करने में सक्षम होते हैं, जबकि अधिक अनुभवी व्यक्ति केवल मामूली प्रगति कर पाते हैं। नोट किए जाने वाले प्रमुख बिंदु हैं:

  1. ट्रेनिंग के लिए आपकी व्यक्तिगत प्रतिक्रिया और प्रगति का निर्णय आनुवंशिक घटक लेते हैं।
  2. ज्यादातर लोग Medium Gainers होते हैं, भले ही वे खुद को Hard Gainers मानते रहें। यद्यपि Hard Gainers भी वास्तव में अस्तित्व में हैं, लेकिन मुश्किल से कुल जनसंख्या का केवल 15% हिस्सा।
  3. चूंकि हर व्यक्ति Training को समान प्रतिक्रिया नहीं करता है, इसलिए आपको Cookie Cutter ट्रेनिंग कार्यक्रमों पर भरोसा नहीं करना चाहिए। आपकी प्रगति की कमी का वास्तविक कारण यह हो सकता है।

अगली बार हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि Steroids आदि पदार्थों के सहारे कि बिना आप कैसे अपनी आनुवंशिक क्षमता निर्धारित और हासिल कर सकते हैं।

संदर्भ

  1. Mann T.N., Lamberts R.P., Lambert M.I. High and low responders: factors associated with individual variation in response to standardized training. Sports Medicine. 2014. 44: 1113-24.
  2. Taylor, E., Covington, J., Galgani, J., Ravussin, E., Bajpeyi, S., Henagan, T. High vs. Low Responders to Exercise: Role of Epigenetic Modifications in Altering PGC1α Gene Expression and Intramyocellular Lipid Content in Skeletal Muscle. FASEB Journal. 2015. 29, 1: 675.20.
  3. Hubal M, Gordish-Dressman H, Thompson P, et al Variability in Muscle Size and Strength Gain after Unilateral Resistance Training Med Sci Sports Exerc 2005. 37(6): 964-972
  4. Bouchard, C., Blair, S.N., Church, T.S., Earnest, C.P., Hagberg, J.M., Hakkinen, K., Jenkins, N.T., Karavirta, L., Kraus, W.E., Leon, A.S., Rao, D.C., Sarzynski, M.A., Skinner, J.S., Slentz, C.A., Rankinen, T. Adverse Metabolic Response to Regular Exercise: Is It a Rare or Common Occurrence? 2012. PLoS One, 7 (5), e37887.
  5. Timmons, J.A. Variability in training-induced skeletal muscle adaptation. Journal of Applied Physiology. 2011. 110, 3: 846-853.
  6. Hopker, J.G. & Passfield, L. Is it time to re-evaluate the training study? Journal of Science and Cycling, 2014, 3 (3) :1-2.
  7. Bouchard C, An P, Rice T, Skinner J, et al Familial aggregation of VO2max response to exercise training: results from the HERITAGE family study J. Appl. Physiol. 1999. 87(3): 1003-1008.
  8. Kim, J & Lee, J. The relationship of creatine kinase variability with body composition and muscle damage markers following eccentric muscle contractions. J. Exerc Nutrition Biochem. 2015 June; 19(2) : 123-129.
  9. Lortie G, Simoneau J, Hamel P, Boulay M, Landry F, Bouchard C. Responses of maximal aerobic power and capacity to aerobic training Int. J Sports Med. 1984. 5: 232-236.
  10. Nielsen, J.L., Aagaard, P., Bech, Rune D., Nygaard, T., Wernbom, M., Suetta, C., Frandsen, U. Rapid Increases in Myogenic Satellite Cells Expressing Pax-7 with Blood Flow Restricted Low-intensity Resistance Training. Medicine & Science in Sports & Exercise. 2011. 43: 752.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *